राज-काज
दिनेश निगम ‘त्यागी’ -
-भाजपा में सोमवार को फिर जश्न का माहौल होगा। इस दिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी नर्मदा सेवा यात्रा के समापन अवसर पर अमरकंटक आ रहे हैं। भाजपा सरकार एवं संगठन ने इस कार्यक्रम में 5 लाख भीड़ इकट्टी करने का लक्ष्य तय कर रखा है। यह काम सरकारी पैसे से ही हो रहा है। तैयारी में दिन रात जुटे मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान एवं उनके सहयोगियों को उम्मीद है कि नर्मदा के उद्गम स्थल से शुरू होकर यही समाप्त होने वाली यह नर्मदा सेवा यात्रा भाजपा एवं उसकी सरकार के लिए मील का पत्थर साबित होगी। यह यात्रा भाजपा के उत्थान का वाहक बनेगी और अगले साल प्रस्तावित विधानसभा चुनाव में भाजपा की लगातार चौथी बार जीत का कारण भी। इस अपेक्षा की वजह से ही संगठन और सरकार ने इसमें पूरी ताकत झोंकी। सोमवार को अमरकंट में समूची सरकार, समूची भाजपा, मीडिया और पूरा प्रदेश होगा।.....
दिनेश निगम ‘त्यागी’ -
-मप्र के सरकार बदले-बदले से नजर आने लगे हैं। बात हो रही है मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की। पहला बदलाव विरोधी नेताओं को लेकर है। ज्योतिरादित्य सिंधिया कांग्रेस का आकर्षक चेहरा है तो मुख्यमंत्री का पहला हमला उन पर हुआ। पहले पारिवारिक पृष्ठभूमि अंग्रेजों के साथ संबंधों के आधार पर और दूसरी बार ट्रस्टों के जरिए जमीनों पर कब्जे को लेकर। बात सही गलत की नहीं है, मुख्यमंत्री के स्वभाव व कार्यशैली की है। वे विरोधियों पर ऐसा हमला कभी नहीं करते थे। हालांकि सिंधिया ने कोई जवाब न देकर ज्यादा गंभीरता व परिपक्वता का परिचय दिया है। इसके अलावा मुख्यमंत्री आजकल हर बैठक में अपने मंत्रियों एवं भाजपा पदाधिकारियों को धमका रहे हैं। पिछले साल उन्होंने कहा था कि जो मंत्री गांव रात बिताने न गया तो समझ लो मंत्रिमंडल से उसकी छुट्टी और अब कह रहे हैं कि जो बैठकों में नहीं आते उनकी खैर नहीं। खास बात यह है कि मुख्यमंत्री की ये धमकियां, नसीहत एवं हमला सिर्फ भाषणों तक.....
दिनेश निगम ‘त्यागी’ -
-जैसी संभावना थी वैसा ही हुआ, बांधवगढ़ एवं अटेर विधानसभा क्षेत्रों के उप चुनाव नतीजे आने के साथ कांग्रेस-भाजपा में बदलाव की बयार फिर बहने लगी। कांग्रेस में अटेर की जीत का श्रेय पूर्व केंद्रीय मंत्री ज्योतिदित्य सिंधिया को दिया जाने लगा तो लगे हाथ यह हवा चल पड़ी की प्रदेश में नेतृत्व के लिए सिंधिया का दावा मजबूत हुआ है। सिंधिया समर्थकों की इस मुहिम के खिलाफ पार्टी के दूसरे नेता लामबंद होने लगे हैं। बदलाव हो न हो लेकिन प्रदेश अध्यक्ष पद से अरुण यादव के जाने की खबर फिर चलने लगी हैं। इसी प्रकार पूरी ताकत झोकने के बाद भी अटेर में हार से भाजपा नेतृत्व एवं सरकार विचलित है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान एवं प्रदेश भाजपा अध्यक्ष नंदकुमारसिंह चौहान को बदले जाने की अटकलें पहले से चल रही थीं, उप चुनाव के नतीजों के बाद इनमें और तेजी आई है। कहा जा रहा है कि मुख्यमंत्री श्री चौहान को बदलने का जोखिम पार्टी नेतृत्व शायह ही उठाए। इनके नाम पर संघ का भी वीटो बताया जाता है। खबर है कि नंदकुमार सिंह चौहान को......
दिनेश निगम ‘त्यागी’ -
- भाजपा-कांग्रेस में बदलाव हो न हो, पर बदलाव को लेकर अटकलों का दौर लगातार जारी है। प्रदेश कांग्रेस में नेतृत्व परिवर्तन की खबरें सुन सुनकर लोग थक चÞुके हैं पर अब भाजपा मे बदलाव को लेकर अटकलें चटकारे लेकर सुनाई व उड़ाई जा रही हैं। यह अटकलें मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को लेकर भी हैं और प्रदेश भाजपा अध्यक्ष नंदकुमार सिंह चौहान को बदले जाने को लेकर भी। इन अटकलों के बीच भाजपा अध्यक्ष अमित शाह का दौरा चर्चा में आ गया है। अभी 17 अप्रैल को वे नर्मदा सेवा यात्रा में हिस्सा लेने आ रहे हैं। इसके बाद माह के अंत में उनके तीन दिन तक प्रदेश के प्रवास पर रहने की खबर है। कहा जा रहा है कि इस प्रवास के दौरान ही....
दिनेश निगम ‘त्यागी’ -
-मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान आमतौर पर गलती अथवा चूक बहुत कम करते हैं। इसलिए भिंड के अटेर क्षेत्र में सिंधिया राजघराने को लेकर उन्होंने जो कहा वह कोई चूक है, यह मानने को मन नहीं करता। पर उन्होंने जो कहा उससे बवाल पैदा हो गया है क्योंकि सिंधिया राजघराने से कांग्रेस में तो सिर्फ एक नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया हैं जबकि भाजपा में एक से ज्यादा। राजमाता विजयाराजे सिंधिया को जनसंघ व भाजपा के संस्थापक सदस्यों में गिना जाता है। उनकी एक पुत्री बसुंधराराजे सिंधिया राजस्थान की मुख्यमंत्री हैं और दूसरी यशोधराराजे प्रदेश की भाजपा सरकार में मंत्री। सिंधिया राजघराने द्वारा अंग्रेजों के साथ मिलकर जुल्म करने संबंधी शिवराज के बयान से यशोधराराजे बेजा नाराज बताई जाती हैं। वे इसे अपना और राजमाता का अपमान मान रही हैं। खबर है कि राजस्थान की मुख्यमंत्री बसुंधराराजे ने यह मसला भाजपा हाईकमान तक पहुंचाया है। सवाल यह है कि मुख्यमंत्री पार्टी में राजमाता के योगदान से....
दिनेश निगम ‘त्यागी’ -
-रक्षा मंत्री पद से मनोहर परिकर के इस्तीफे के बाद प्रदेश के मुख्यमंत्री को बदलने की अटकलें धीमी तो हुई हैं पर बंद नहीं। यही वजह है कि केंद्रीय मंत्री उमा भारती एवं कैलाश विजयवर्गीय का मप्र दौरा हुआ और अटकलें फिर तेज हो गर्इं। ये दोनों नेता बोलें कुछ भी, पर राजनीतिक हलकों में इन्हें मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान का विरोधी ही माना जाता है। भोपाल में इन दोनों नेताओं ने एक जैसी बात की, जिसकी वजह से अटकलों को और बल मिला। दोनों ने मुख्यमंत्री चौहान की जमकर तारीफ की। दोनों ने कहा कि विधानसभा का अगला चुनाव शिवराज सिंह चौहान के नेतृत्व में ही लड़ा जाएगा और भाजपा फिर बहुमत हासिल कर सरकार बनाएगी। उमा ने अपने बंगले में लंबे समय तक मीडिया से बात की तो कैलाश विजयवर्गीय ने होली मिलन के नाम पर भोज दिया। लंबे समय बाद ऐसा हुआ जब विजयवर्गीय ने साल भर में तीन बार मीडिया और नेताओं को अपने बंगले बुलाया। शुरुआत भुट्टा पार्टी से हुई थी। बहरहाल सच जो भी हो पर राजनीतिक विश्लेषक इन दोनों नेताओं की सक्रियता को......
दिनेश निगम ‘त्यागी’ -
-प्रधानमंत्री के तौर पर जबसे नरेंद्र मोदी की ताजपोशी हुई तब से ही मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को बदले जाने की अटकलें चाहे जब चल पड़ती हैं। कोई भी ऐसा अवसर हाथ लगा, इन अटकलों के रचयिता सक्रिय हो जाते हैं। ऐसा ही उत्तरप्रदेश सहित पांच राज्यों के विधानसभा चुनाव के नतीजे आने के बाद हुआ। उधर रक्षा मंत्री मनोहर परिकर ने इस्तीफा दिया और इधर राजनीतिक गलियारों एवं सोशल मीडिया से होती हुई यह चर्चा अखबारों तक की सुर्खियां बन गई कि शिवराज सिंह चौहान को देश का अगला रक्षा मंत्री बनाया जा रहा है। हवा इतनी फैली कि खुद मुख्यमंत्री श्री चौहान को स्पष्टीकरण देना पड़ा कि यह महज अफवाह है। वे रक्षा मंत्री बनने नहीं जा रहे हैं। उन्होंने यह भी कहा कि.....
दिनेश निगम ‘त्यागी’ -
-उत्तरप्रदेश विधानसभा चुनाव के नतीजों ने समूचे देश पर असर डाला है। ऐसे में सीमावर्ती जिलों की राजनीति पर प्रभाव स्वाभाविक है। यहां कांग्रेस की जो दुर्गति हुई है उससे वह कभी उबर पाएगी कह पाना कठिन है। इन नतीजों का असर मप्र कांग्रेस की राजनीति पर भी हुआ है। कांग्रेस के कमलनाथ एवं ज्योतिरादित्य सिंधिया जैसे नेता जो प्रदेश कांग्रेस का नेतृत्व संभालने के लिए आतुर थे अब बैकफुट पर बताए जा रहे हैं। इन्हें लगना लगा है कि अभी कुछ साल नरेंद्र मोदी का जादू मतदाताओं के सिर से उतरने वाला नहीं है। वैसे भी मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान कांग्रेस की राह के बड़े रोड़ा हैं। नरेंद्र मोदी का साथ बना रहा तब तो प्रदेश में कांग्रेस की कल्पना करना भी बेमानी होगा। इस बात को ध्यान में रखकर इन नेताओं ने अब अपनी दावेदारी पर दम न लगाने का निर्णय लिया है। पार्टी हाईकमान जो निर्णय लेगा, ये नेता उसे शिरोधार्य करने के मूड में आ गए बताए जा रहे हैं। यही तो है मोदी मैजिक और उसका असर।......
दिनेश निगम ‘त्यागी’ -
- दलित वर्ग कभी कांग्रेस का प्रतिबद्ध वोटर हुआ करता था। इस पर सबसे पहली सेंध उत्तरप्रदेश में बहुजन समाज पार्टी ने लगाई। इस वर्ग का वोट बसपा को मप्र सहित अन्य कई प्रदेशों में भी मिलने लगा। इस बीच भाजपा दलित वोट की ताकत को समझ गई। यही वजह है कि भाजपा और उसकी सरकार दलित वर्ग को खुद के साथ जोड़े रखने के सारे जतन कर रहे हैं। मप्र में यह वर्ग काफी हद तक भाजपा के साथ आ चुका है। यह उसका प्रतिबद्ध वोटर बने, अब इसके प्रयास जारी हंै। इस बात को ध्यान में रखकर ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी महू में समरसता सम्मेलन में आए। सिंहस्थ में समरसता स्रान एवं समरसता भोज हुआ, जिसमें भाजपा अध्यक्ष अमित शाह शरीक हुए। पदोन्नति में आरक्षण पर हाईकोर्ट का फैसला आया तो मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि कोई माई का लाल......
दिनेश निगम ‘त्यागी’ -
-भाजपा में प्रहलाद पटेल ऐसे नेता हैं जो मौका देखकर प्रहार करते हैं, उनका प्रहार ‘सौ सुनार की एक लुहार की’ कहावत को चरितार्थ कर जाता है। प्रहार ऐसा होता है कि उनकी खुद की पार्टी कटघरे में होती है और कोई जवाब देने की स्थिति में नहीं होता। शिवराज सिंह चौहान के पहले कार्यकाल में डंपर कांड वे ही लेकर आए थे। यह लंबे समय तक चला था। अब उन्होंने व्यापमं घोटाले को लेकर अपनी ही सरकार पर हमला बोला है। उन्होंने किसी से बात नहीं की। दो दिन लगातार वे ट्विटर पर बोले और ऐसा कि सरकार सकते में आए गई, भाजपा के सभी नेताओं की बोलती बंद हो गई। वे बोले ही ऐसा कि सरकार कटघरे में भी खड़ी हुई और कोई उनसे कह भी नहीं सकता कि यह आपने क्या कह दिया। प्रहलाद शनिवार को भोपाल आए।......
दिनेश निगम ‘त्यागी’ -
-मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान चाहें और किसी को प्रभावित न कर पाएं, यह संभव नही हैं। उनका यह जादू संघ प्रमुख मोहन भागवत पर भी चला। भागवत के भोपाल में दो कार्यक्रम थे। पहला लाल परेड में। यहां शिवराज ने अनुशासन दिखाया। भागवत जी कुर्सी में बैठे तो शिवराज भी बैठ गए पर अचानक संघ प्रमुख फिर खड़े हुए तो शिवराज की स्थिति देखने लायक थी। वे आधे खड़े और आधे झुके दिख रहे थे। भागवत जी ने संबोधन के प्रारंभ में शिवराज के लिए आदरणीय लगाया और फिर कहा आपके लोकप्रिय मुख्यमंत्री। इसके बाद बैरागढ़ में श्री भागवत मुख्यमंत्री के भाषणों से प्रभावित दिखे। मुख्यमंत्री जब बोल रहे थे तो उन्होंने पूरा भाषण नीचे सिरकर तन्यमता से सुना और भाषण समाप्त होते ही ताली भी बजाई।......
दिनेश निगम ‘त्यागी’ -
-भाजपा और उसकी सरकार के प्रमुखों की सांसें इस समय अटकी हुई हैं। वजह है राष्टÑीय स्वयंसेवक संघ के प्रमुख मोहन भागवत एवं अन्य नेताओं का प्रदेश में प्रवास और विभिन्न कार्यक्रमों में शिरकत। चिंता इस बात की है कि संघ-भाजपा की समन्वय बैठक में जो बातें पहले तय हुई थीं, उन पर सवाल जवाब शुरू न हो जाए। क्योंकि उनमें से अधिकांश पर अमल न होने की खबर है। एक चिंता कटनी हवाला कांड को लेकर भी है। वहां के संघ नेता सरकार के एक राज्य मंत्री के खिलाफ थे और अभियान चलाए हुए थे। ये नेता संघ प्रमुख सहित अन्य नेताओं से मिलकर फिर मंत्री को हटाने का दबाव बना सकते हैं। ....
दिनेश निगम ‘त्यागी’ -
0 सोशल मीडिया ने बना दिया सीएम....
-कुछ बे-सिर-पैर की खबरों की वजह से सोशल मीडिया अपनी विश्वसनीयता खो रहा है। इस हफ्ते सोशल मीडिया की सबसे चर्चित खबर थी, मुख्यमंत्री का बदलना। खबर चली कि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को उत्तरप्रदेश चुनाव का प्रभारी बना दिया गया है और उनके स्थान पर प्रदेश के गृह मंत्री भूपेंद्र सिंह को मुख्यमंत्री का दायित्व मिल गया है। फिर एक खबर यह भी चली कि भूपेंद्र सिंह का नाम उत्तर प्रदेश के लिए जारी भाजपा की स्टार प्रचारकों की सूची में शामिल है। इन दोनों खबरों का सच सेकोई वास्ता नहीं था पर ये सोशल मीडिया की सुर्खियां रहीं। कई लोगों ने गृह मंत्री को बधाईयां दे डाली। वे स्पष्टीकरण दे देकर परेशान हो गए। ऐसी खबरों की वजह से ही सोशल मीडिया की साख को बट्टा लगा है।.....
दिनेश निगम त्यागी -
- प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जब से नोटबंदी की घोषणा की तब से ही समूची भाजपा और सरकार में शामिल मंत्री पूरी ताकत से प्रधानमंत्री के निर्णय के साथ खड़े दिखाई पड़ रहे हैं। पर कई नेताओं व मंत्रियों पर यह निर्णय कितना भारी पड़ा है, इसका अंदाजा दोस्ताना बात करने पर पता चल जाता है। आखिर, केंद्र एवं प्रदेश में भाजपा की ही सरकार है, इसलिए नगद रकम भी ज्यादा भाजपा नेताओं के पास ही थी। उसे ठिकाने लगाने में उन्हें कई तरह के पापड़ बेलने पड़े। पिछले दिनों भाजपा के एक बड़े नेता भोपाल आए। अनौपचारिक बातचीत में उनका भी दर्द बाहर छलक आया। दरअसल वे नोटबंदी से जुड़े सवाल का ही जवाब दे रहे थे। जब आंकड़ों को लेकर ज्यादा सवाल जवाब हुए तो उनकी भी पीड़ा झलक पड़ी और बोले क्या करेंगे हमें तो यही बोलना पड़ेगा। यह उस नेता का कथन है जिनकी गिनती ईमानदार नेताओं में होती है। ऐसे में अवैघ तरीके से पैसा कमाने वाले नेताओं की हालत का अंदाजा लगाया जा सकता है।.....
दिनेश निगम त्यागी -
-भाजपा की फायर ब्रांड नेत्री, केंदीय मंत्री साध्वी उमा भारती एक बार फिर चर्चा में हैं। वजह है कांग्रेस महासचिव दिग्विजय सिंह द्वारा उनके खिलाफ दायर मानहानि का प्रकरण। यह चल तो तब से ही रहा है जब वे मुख्यमंत्री बनी थीं। विधानसभा चुनाव के दौरान लगाए गए आरोपों की वजह से दिग्विजय ने उनके खिलाफ यह प्रकरण दायर किया था। इस प्रकरण का सामना उमा खुद कर रही थीं। प्रदेश भाजपा अथवा पार्टी की सरकार उनके साथ कभी खड़ी नजर नहीं आई पर अचानक पहली बार प्रदेश भाजपा के सभी नेता इस मामले में उमा जी को साधने में जुट गए हैं। प्रदेश अध्यक्ष नंदकुमार सिंह चौहान ने बाकायदा ऐलान किया कि उमाजी का प्रकरण भाजपा लड़ेगी। सरकार ने भी एक रिटायर्ड नौकरशाह को इस काम में लगाया और संगठन की ओर से भी कई नेता प्रकरण में उमाश्री की मदद के लिए लगाए गए। प्रदेश भाजपा ने उमाश्री की खुशामद अचानक क्यों शुरू की, इसकी खोज जारी है और.....
दिनेश निगम त्यागी -
भोपाल/ मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान अपने मंत्रिमंडल के एक और छोटे विस्तार की तैयारी में है। यह नए साल के प्रारंभ में हो सकता है। मंत्रिमंडल में दो पद पहले से रिक्त थे, एक पद ज्ञान सिंह के सांसद बनने के बाद रिक्त हो गया है। विधानसभा चुनाव के लिए भी अब दो साल का समय बचा है। ऐसे में मुख्यमंत्री चुनावों को ध्यान में रखकर अपनी टीम को अंतिम रूप देना चाहते हैं। विस्तार में ज्ञान सिंह की जगह किसी आदिवासी विधायक को स्थान मिलना तय है तो इस बार इंदौर जिले को भी प्रतिनिधित्व मिल सकता है। संभवत: यह पहला अवसर है जब इंदौर जैसे महानगर का मंत्रिमंडल में प्रतिनिधित्व नहीं है। मुख्यमंत्री की मंशा अब किसी और मंत्री को हटाने की नहीं है पर सक्रियता एवं पसंद को ध्यान में रखकर वे कुछ मंत्रियों के विभागों में फेरबदल कर सकते हैं।....
दिनेश निगम त्यागी -
-शिवराज सिंह चौहान के मुख्यमंत्री के तौर पर 11 साल पूरे होने के उपलक्ष्य में आयोजित जश्न दावों व उम्मीद पर खरा नहीं उतरा। जंबूरी मैदान में आयोजित हितग्राही सम्मेलन में 7 लाख लोगों के आने का दावा किया गया था पर आए बमुश्किल आधा लाख। खाने के पैकटों की व्यवस्था आधा लाख के लिए होना थी पर बने 22 हजार। वे भी समय पर पहुंच नहीं सके। इन दोनों वजहों से मुख्यमंत्री नाराज हैं। संगठन को वे कुछ कह नहीं सकते क्योंकि आयोजन सरकारी था और मुख्यमंत्री के खास अफसरों ने व्यवस्था की कमान संभाल रखी थी। प्रदेश भाजपा की ओर से तो संभाग स्तर पर 25-25 हजार की भीड़ वाले संभागीय सम्मेलनों की सलाह दी गई थी। इसे माना नहीं गया तो संगठन भी हाथ पर हाथ रखकर बैठ गया। नतीजा, आयोजन सुपर फ्लाप हो गया। शिवराज के कार्यकाल में ऐसा अफसल आयोजन शायद ही कभी हुआ हो, यही वजह है कि अब भी बलि के बकरे की तलाश की जा रही है। किसी भी बहाने किसी भी अफसर पर कभी भी गाज गिर सकती है।....
चेन्नई : तमिलनाडु की पूर्व मुख्यमंत्री जे जयललिता की 70वीं जयंती पर 24 फरवरी से अम्मा दुपहिया वाहन योजना शुरू होगी जिसके तहत महिलाएं 50 फीसदी सरकारी सब्सिडी पर मोपेड वाहन खरीद सकेंगी। अन्नाद्रमुक ने अपने घोषणापत्र में कहा था कि महिलाओं को 125 क्यूबिक क्षमता से कम के मोपेड या स्कूटर खरीदने के......
बेंगलुरू : कर्नाटक में विधानसभा चुनावों से पहले सत्तारूढ़ कांग्रेस और विपक्षी भाजपा के बीच सोशल मीडिया पर गोमांस को लेकर जंग छिड़ गयी है और दोनों पक्ष एक दूसरे का मजाक उड़ाते हुए वीडियो डाल रहे हैं। कांग्रेस ने अपने ताजा वीडियो में भाजपा को ‘बीफ जनता पार्टी’ कहते हुए उसकी खिल्ली उड़ाई है।
नई दिल्ली। शिवसेना ने सोमवार को आम आदमी पार्टी (आप) के दिल्ली के 20 विधायकों को ‘लाभ का पद’ धारण करने को लेकर अयोग्य करार दिए जाने में ‘जल्दबाजी’ को लेकर सवाल उठाए। शिवसेना ने कहा, “यह एक अभूतपूर्व घटना है जिसमें बहुत से चुने हुए विधायकों को थोक भाव से अयोग्य करार दे दिया गया।
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी विश्व आर्थिक मंच (WEF) में भाग लेने के लिए पीएम मोदी ज्यूरिख पहुंच चुके हैं. यहां से पीएम सीधे दावोस रवाना होंगे. इस मंच में शरीक होने वाले मोदी बतौर प्रधानमंत्री एचडी देवगौड़ा के बाद देश के दूसरे प्रधानमंत्री हैं. 1997 में दावोस गए देवगौड़ा और 2018 में दावोस जाने वाले मोदी के शासनकाल में देश की परिस्थतियां बहुत भिन्न थीं.

शिमला: प्रदेश में जल्द एच.आर.टी.सी. की इलैक्ट्रिक टैक्सी सेवा जल्द शुरू होने जा रही है। इसके लिए बकायदा प्रदेश मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर द्वारा हरी झंडी दिखाने की तैयारी की जा रही है। इलैक्ट्रिक टैक्सी व बस सेवा को शुरू करने के लिए हिमाचल पथ परिवहन निगम प्रबंधन द्वारा योजना तैयार कर ली है....

 

 
यूपी :यूपी के अलीगढ़ में 10वीं की छात्रा के गैंगरेप की सनसनीखेज वारदात सामने आई है. पीड़िता के गांव के ही चार युवकों ने इस वारदात को अंजाम दिया है. इस दौरान उन्होंने उसका अश्लील वीडियो भी बना लिया और वायरल करने की धमकी देकर ब्लैकमेल करते रहे. पीड़ित की तहरीर पर पुलिस ने केस दर्ज करके जांच शुरू कर दी है.
22-01-2018
भोपाल: गांधीनगर इलाके में स्कूल से लौटते समय छठवीं की छात्रा से बदमाश ने छेड़छाड़ कर दी। पुलिस ने इस मामले में आरोपी युवक के खिलाफ प्रकरण दर्ज कर उसे हिरासत में ले लिया। पुलिस के अनुसार महावीर बस्ती में रहने वाली 13 वर्षीय किशोरी कक्षा छठवीं की छात्रा है।
19-01-2018
नई दिल्ली: चुनाव आयोग द्वारा लाभ के पद के मामले में आम आदमी पार्टी के 20 विधायकों को अयोग्य ठहराए जाने की सिफारिश राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद को भेजे जाने से संबंधित मीडिया रिपोर्टों पर पार्टी विधायक सौरभ भारद्धाज ने कड़ी प्रतिक्रिया दी है। भारद्धाज ने इसपर मुख्य चुनाव आयुक्त एके. जोति पर तीखा हमला करते हुए आरोप लगाया कि......
19-01-2018
वॉशिंगटन: पूरी दुनिया में 2014 में विज्ञान और इंजीनियरिंग में अनुमानित रूप से 75 लाख स्नातक डिग्रियां दी गयीं जिनमें भारत की सबसे ज्यादा, एक-चौथाई हिस्सेदारी थी. हालांकि अनुसंधान एवं विकास के क्षेत्र में खर्च के लिहाज से अमेरिका पहले स्थान पर है. नेशनल साइंस फाउंडेशन की वार्षिक साइंस एंड इंजीनियरिंग इंडिकेटर्स 2018 रिपोर्ट के.......
19-01-2018
मुंबई : भारिप बहुजन महासंघ प्रमुख एवं दलित नेता प्रकाश अंबेडकर ने आज कहा कि कांग्रेस 2024 तक भाजपा को सत्ता से बेदखल नहीं कर सकती क्योंकि वह प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की साफ सुथरी छवि का मुकाबला नहीं कर सकती। प्रकाश अंबेडकर ने यहां मुंबई मराठी पत्रकार संघ द्वारा आयोजित बातचीत में यह कहा।
19-01-2018
चेन्नई: पूर्व कप्तान महेन्द्र सिंह धोनी ने दक्षिण अफ्रीका में भारतीय टीम के लचर प्रदर्शन का बचाव करते हुए आज यहां कहा कि टीम के लिए कई सकारात्मक पहलू है जिसमें से गेंदबाजों का शानदार प्रदर्शन प्रमुख है। विराट कोहली के नेतृत्व में विश्व रैंकिंग में पहले स्थान पर काबिज भारतीय टीम दक्षिण अफ्रीका से तीन मैचों की श्रृंखला में 0-2 से पिछड़ रही है। 
19-01-2018
 नयी दिल्ली : भारतीय दूरसंचार नियामक प्राधिकरण :ट्राई: ने रिलायंस कम्युनिकेशंस :आरकॉम: को उपभोक्ताओं के खर्च नहीं हुए बैलेंस और सिक्योरिटी जमा को लौटाने का निर्देश दिया है। ग्राहकों ने इस बारे में नियामक के पास शिकायत की थी, जिसके बाद यह निर्देश दिया गया है। ट्राई ने अनिल अंबानी की अगुवाई वाली कंपनी से प्रीपेड ग्राहकों का पैसा और पोस्ट पेड उपभोक्ताओं की जमा राशि लौटाने......
कैबिनेट: सातवें वेतनमान पर बैठक में नहीं हुई चर्चा, मेधावी छात्रों की फीस देगी सरकारभोपाल। सीएम शिवराज सिंह चौहान की अध्यक्षता में हुई कैबिनेट की बैठक में कई अहम प्रस्तावों पर चर्चा हुई। हालांकि, सातवें वेतनमान का मुद्दा स्थगित कर दिया गया। कयास लगाई जा रही थी कि प्रदेश के साढ़े चार लाख कर्मचारियों को 1 जुलाई 2017 से ...
भोपाल/ प्रदेश के गृह मंत्री भूपेंद्र सिंह ने मंगलवार को विधानसभा में घोषणा की कि लोगों के करोड़ों रुपए ठग कर भागने वाली कंपनियों की मानीटरिंग एवं समय पर कार्रवाई करने के उद्देश्य से पुलिस मुख्यालय में एडीजी के नेतृत्व में एक मानीटरिंग सेल का गठन किया जाएगा। इसके साथ रिजर्व बैंक आफ इंडिया को पत्र लिखकर आग्रह किया जाएगा कि वे कंपनियों को लाइसेंस जारी करने से पहले पुलिस का सत्यापन अनिवार्य करें। गृह मंत्री विधानसभा में भाजपा के यशपाल सिंह सिसोदिया द्वारा लाए गए ध्यानाकर्षण एवं सदस्यों द्वारा व्यक्त की गई आशंकाओं का जवाब दे रहे थे।


देवदत्त दुबे
भोपाल n देवदत्त दुबे
भाजपा के संगठन शिल्पी माने जाने वाले स्व. कुशाभाऊ ठाकरे की जन्मभूमि - कर्मभूमि और पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष विक्रम वर्मा के गृहनगर धार में भाजपा की हार, वहीं बड़वानी नगर पालिका पर भाजपा के चार बार के विधायक प्रेमसिंह पटैल की हार से भाजपा की चिंता बढ़ गई है। वहीं कांग्रेस को एकता का जीत का मंत्र मिल गया है। धार में कांग्रेस के बालमुकुन्द सिंह गौतम एवं मोहन बुन्देला के बीच पार्टी नेताओं ने एेन चुनाव के वक्त जो एकता कराई उसी के कारण पार्टी भाजपा से यह सीट छीनने में सफल हुई और कांग्रेस एेसी ही एकता धारा आगे बढ़ाने पर फोकस करेगी। दरअसल मिशन 2018 के फायनल मुकाबले के पहले इन 19 नगरीय निकाय चुनाव और मुंगावली-कोलारस विधानसभा के उपचुनाव को सेमी फायनल के रूप में देखा जा रहा था जिसके दोनों दलों ने अपनी पूरी ताकत झोंकी थी खासकर सत्ताधारी दल की ओर से स्वयं मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने अधिकांश सीटों पर रोड शो और सभाएं की लेकिन अपेक्षित परिणाम नहीं मिले। 
वहीं प्रमुख विपक्षी दल कांग्रेस के क्षत्रप नेता इन चुनावों में प्रचार अभियान से दूर रहे केवल प्रदेशाध्यक्ष अरुण यादव और नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह ही कुछ क्षेत्रों में प्रचार के लिए पहुंचे वैसे तो दोनों दलों ने एक-दूसरे से सीटें छीना और नौ-नौ की बराबर सीटें जीतने में कामयाब रहे। एक सीट निर्दलीय उम्मीदवार ने जीती लेकिन दोनों ही दलों के पास अब आगे के लिए पर्याप्त अवसर बने हुए हैं। अब दोनों ही दलों में समीक्षा का दौर भी शुरू हो गया है और जो भी परिवर्तन और आगे की रणनीति बनेगी उसके परिणाम अब शीघ्र ही देखने को मिलेंगे क्योंकि दूसरे सेमी फायनल के रूप में मुंगावली और कोलारस विधानसभा के उपचुनाव घोषित हो चुके हैं जहां  24 फरवरी को मतदान होना है। यहां पर दलों से ज्यादा सिंधिया और शिवराज सिंह की प्रतिष्ठा दांव पर है। दोनों ही दलों ने पिछले तीन-चार महीनों से यहां चुनाव प्रचार चलाया हुआ है। स्वयं मुख्यमंत्री के दोनों क्षेत्रों में अनेकों दौरे हो चुके है सिंधिया भी लगातार दोनों क्षेत्रों के दौरे कर रहे हैं फिलहाल नगरीय निकाय के चुनाव परिणाम ने दोनों दलों का तनाव इन उपचुनावों के पूर्व बढ़ा दिया है।
बहरहाल शनिवार आये 19 नगरीय निकाय के चुनाव में कांग्रेस और भाजपा के बीच कड़ा मुकाबला रहा। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अरुण यादव ने नगरीय निकाय चुनावों के परिणामों में पार्टी को हासिल सफलता को चुनौती और संघर्ष के संकल्प का आगाज बताया है। उन्होंने कहा कि इस जीत का श्रेय पार्टी के उन कार्यकर्ताओं को है जो विगत 14 सालों से निरंतर एक तानाशाह राज्य सरकार के खिलाफ सीधा संघर्ष कर रहे हैं। यादव ने कहा कि पार्टी मुंगावली-कोलारस में भी अपनी एेतिहासिक जीत दर्ज कराएगी। वहीं नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह का कहना है कि नतीजों में 7 सीटें कांग्रेस ने भाजपा से छीनी है जो कि भाजपा सरकार के प्रति जनता के निरंतर मोहभंग होने का परिणाम है। सिंह ने कहा कि मुख्यमंत्री केन्द्रीय मंत्री, भाजपाध्यक्ष और मंत्रियों सहित पूरे धन-बल के साथ भाजपा ने यह चुनाव लड़ा तब भी वे जनता का आक्रोश नहीं रोक पाए। वहीं भाजपा प्रदेशाध्यक्ष नंदकुमार चौहान का कहना है कि नगरीय निकाय चुनाव स्थानीय मुद्दों पर लड़े जाते हैं और इनका प्रादेशिक और राष्ट्रीय मुद्दों पर कोई फर्क नहीं पड़ता अौर न ही 2018 के चुनाव से इसे जोड़ा जाना चाहिए जो भी जीत और हार के कारण रहे हैं पार्टी उनकी समीक्षा करेगी।
कुल मिलाकर नगरीय निकाय चुनाव परिणाम ने दोनों दलों को 2018 के लिए संदेश दिये हैं सत्तारूढ़ दल भाजपा के सामने जहां एंटीइनकमवेंसी और भाजपा के बागियों की भविष्य में बड़ी चुनौती रहेगी तो कांग्रेस में भी जहां एकता के साथ चुनाव लड़ा गया वहां जीत मिली और जहां आपस में गुटबाजी रही वहां हार। यही कारण है कि पार्टी नये सिरे से धार जैसी एकता की धारा आगे बहाने की बात की जा रही है। .....
बाहुबली 2बाहुबली जब से रिलीज हुई है तब से फिल्मी दुनिया पर छाई हुई है. भारत में सफलता पाने वाली बाहुबली 2 विदेश को विदेशों में भी काफी सराहा जा रहा है. खबर है कि बाहुबली 2 मोस्को के अंतरराष्ट्रीय फिल्म फेस्टिवल में ओपनिंग फिल्म के तौर पर दिखाई जाएगी.
सर्दियों मेें धूप हर किसी को ही अच्छी लगती है लेकिन आजकल लोग या तो टैनिंग की वजह से या फिर अपने काम काज के कारण धूप नहीं ले पाते लेकिन यदि आप इसके फायदों के बारे में जानेगें तो आपको पता चलेगा कि धूप लेने से कितनी ही बीमारियां ठीक होती है।
.......
25 सितंबर
उपांग ललिता पंचमी व्रत। ललिता पंचमी। सोमवती पंचमी पर्व। बुध अस्त पूर्व में 16/22 पर।
26 सितंबर
बुध कन्या राशि में 10/28 पर। शुक्र पूर्वाफाल्गुनी नक्षत्र में 26/20 पर।
27 सितंबर
मूल नक्षत्र में सरस्वती देवी का आवाह्न। भद्रकाली अवतार। अन्नपूर्णा परिक्रमा प्रारम्भ 19/09 बजे से। ओली प्रारम्भ (जैन) चतुर्थी पक्ष। सूर्य हस्त नक्षत्र में 05/56 पर। सूर्य-सूर्य, स्त्री-नपुंसक योग, वाहन मूषक, वायु नाड़ी, तदीश सूर्य (पुरुष), अत: बहुत हवा चले अनावृष्टि हो।
28 सितंबर
दुर्गाष्टमी व्रत। महाष्टमी। अष्टमी का हवनादि आज ही करें। पूर्वाषाढ़ा नक्षत्र में सरस्वती देवी का पूजन। अन्नपूर्णा परिक्रमा समाप्त 21/37 बजे। ओली प्रारम्भ (जैन पंचमी पक्ष)। श्री अष्टभुजी दुर्गा शक्ति पीठ (दुर्गा मंदिर) कानपुर में शतचण्डी यज्ञ का हवन पूर्णाहुति एवं महाप्रसाद वितरण। शक्ति संगीत सभा।
29 सितंबर......


php_network_getaddresses: getaddrinfo failed: Name or service not known--->0