स्पेशल रिपोर्ट
देवदत्त दुबे -
एक के बाद एक एेसी परिस्थितियां बनती जा रही हैं जिससे प्रदेश में महत्वपूर्ण फैसलों के लिए फासला बढ़ता ही जा रहा है। स्वयं मुख्यमंत्री कई बार कहने के बाद भी मंत्रिमंडल विस्तार नहीं कर पाये दो देेश के साथ-साथ भाजपा की कार्यकारिणी भी अब तक गठित नहीं हो पाई। सो अब अनुमान यही है कि पांच राज्यों के चुनाव और सिंहस्थ कुंभ के बाद ही महत्वपूर्ण फैसले लिए जाएंगे। फैसलों को लेने में अब तक एेसी परिस्थितियां बनती रही हैं कि हर बार निर्णयों को टालना पड़ा दरअसल ये फैसले एक साथ ही किए जाएंगे क्योंकि ये एक दूसरे से जुड़े हुए हैं। मसलन, प्रदेश से कौन राष्ट्रीय कार्यकारिणी में जाएगा, कौन प्रदेश कार्यकारिणी में रहेगा, किसे राज्यसभा में भेजा जाएगा और किसे केन्द्रीय मंत्रिमंडल में लिया जाएगा और किसे बाहर किया जाएगा इसी तरह प्रदेश मंत्रिमंडल की भी स्थिति रहेगी और जब ये तमाम बड़े फैसले हो जाएंगे तब कहीं जा कर प्रदेश में एल्डलमैन और अब अन्त्योदय समिति बनाने जैसे निर्णय होंगे सूत्रों की मानें तो राष्ट्रीय और प्रादेशिक स्तर पर इन तमाम प्रकार के फैसलों को लेने का खाका तैयार कर लिया गया है। चूंकि इस बार जो भी निर्णय होंगे वे इस लिहाज से महत्वपूर्ण होंगे कि इन्हीं जिम्मेदारों के जिम्मे आगामी विधानसभा और लोकसभा के चुनाव होंगे।.... 
देवदत्त दुबे -
एक तो पहले से ही राजनीतिज्ञों को बेहद सतर्क और सचेत रहना पड़ता है दूसरा जब से सोशल मीडिया का प्रभाव बढ़ा है तब से राजनीति की राहें अब बेहद रपटीली हो गई हैं। अब राजनीतिज्ञों की कथनी और करनी का भेद किसी से छिन नहीं सकता है। सो राजनीितज्ञ यदि अपने आपको साफ सुथरा, ईमानदार, नैतिक दिखाना चाहते हैं तो उन्हें ऐसा बनना पड़ेगा। अंदर का सत्व तत्व मजबूत करना ही पड़ेगा अन्यथा कागज के कपड़े पहनने वाले नेता जरा सी पानी की बौछार में नग्न हो जाएंगे, क्योंकि हर तरफ से राजनीतिज्ञों की निगरानी बढ़ गई है िजसका उपयोग नेता के विरोधी उसे निपटाने में करते हैं। उठने, बैठने, बोलने, चलने, मिलने यहां तक कि हाव-भाव से भी नेता को पहचानने की कोशिशें बढ़ गई हैं। ऐसे में लगता तो यही है कि अब पाखंडी नेताओं का दौर धीरे-धीरे समाप्त होगा और ऐसे नेता जो वास्तव में जैसे दिखते हैं उससे ज्यादा अंदर से अच्छे होते हैं और जो कहते हैं उससे ज्यादा काम करते हैं, का दौर आने वाले समय में आएगा। 
देवदत्त दुबे -
आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सीधे तौर पर पंचायतों से जुड़ रहे हैं। इस कारण सभी जनप्रतिनिधि और अधिकारी भी गांव में रहेंगे। ग्रामोदय से भारत उदय अभियान के तहत ग्राम पंचायतों की जो पूछपरख बढ़ना शुरू हुई है उसमें आज के कार्यक्रम को इस दिशा में अहम माना जा रहा है।
केंद्र सरकार के लगभग हर कार्यक्रम को बढ़ा-चढ़ाकर मध्यप्रदेश में लागू किया जा रहा है। इस कार्यक्रम को भी मुख्यमंत्री ने प्रदेश में और विस्तार दे दिया है। मुख्यमंत्री इस संबंध में अलग से प्रोजेक्ट भी बना रहे हैं। देश के साथ साथ प्रदेश में भी आज ग्रामसभा की बैठकें बुलाई गई हैं जिन्हें पीएम नरेंद्र मोदी सीधे संबोधित करेंगे जो दूरदर्शन और आकाशवाणी से सीधे प्रसारित किया जाएगा। इस कारण हर पंचायत में रेडियो और टीवी की व्यवस्था तो की गई है साथ ही सांसदों, विधायकों, मंत्रियों समेत भाजपा के तमाम निर्वाचित जनप्रतिनिधियों और नेताओं को साफ निर्देश दिए गए हैं कि वो आज दोपहर 3 से 5 बजे के बीच गांव में ही ग्रामीणों के साथ बैठकर मोदी का भाषण सुनें और देखें। अपने संबोधन में मोदी आज बताएंगे कि ग्रामोदय से भारत उदय अभियान के तहत पंचायतों को क्या करना है। ....
 
देवदत्त दुबे -
भारतीय जनता पार्टी के लिए मध्यप्रदेश कितना महत्वपूर्ण है इसका नजारा बुधवार को राजधानी भोपाल मेें देखने को मिला जब एक संगठन महामंत्री के परिचय और एक की विदाई में राष्ट्रीय नेत=त्व से लेकर प्रदेश नेत=त्व सक्रिय रहा। प्रदेश भाजपा कार्यालय दीनदयाल परिसर में शाम 5 बजे हुई भाजपा नेताओं की महत्वपूर्ण बैठक में नये संगठन महामंत्री सुहास भगत का परिचय कराते हुए राष्ट्रीय संगठन महामंत्री रामलाल और प्रदेश प्रभारी विनय सहस्त्रबुद्धे ने जमकर तारीफ की। विनय सहस्त्रबुद्धे ने तो सुहास भगत को मनोविज्ञान का अच्छा जानकार बताते हुए कहा कि भगत व्यक्ति के चेहरे को पढ़ने की क्षमता रखते हैं। भगत सहभागिता के पक्षधर हैं। भगत के निर्देशन में संगठन विस्तार के नये क्षितिज का स्पर्श करेगा। भाजपा के सामने बहुत जिम्मेदारियां हैं। भगत की ऊर्जा उन्हें पूरा करने में सहायक होगी। वहीं राष्ट्रीय महामंत्री रामलाल ने अपने उद्बोधन में संतुलन पर जोर दिया उन्होंने जहां सुहास भगत की संगठनात्मक क्षमता का जिक्र किया वहीं यह भी कहा कि अरविन्द मेनन को परिस्थितियों की आवश्यकता के अनुकूल राष्ट्रीय स्तर पर जिम्मेवारी सौंपी गई है।.... 
देवदत्‍त दुबे -
प्रदेश में इस समय सरकार के सामने चौतरफा चुनौतियां है। एक तरफ जहाँ ऐतिहासिक सिंहस्थ को शांति पूर्वक संपन्न कराना है तो दूसरी तरफ भीषण सूखें के चलतते प्रदेशवासियों को पेयजल उपलब्ध कराना है, इसके अलावा बिगड़ती स्वास्थ्य सेवाये सुधारना एवं अवैध उत्‍खन्‍न पर रोक लगाना भी अब बेहद आवश्यक हो गया है। एेसे दौर में घोड़ाडोंगरी विधान सभा का उपचुनाव घोषित हो जाना किसी नई चुनौति से कम नही। निर्वाचन आयोग ने बैतूल जिले की घोड़ाडोगरी (अनुसूचित जनजाति) विधान सभा उपचुनाव के लिये घोषणा कर दी है। घोषित कार्यक्रम के अनुसार 16 मई को मतदान एवं 19 मई को मतगणना होगी। घोड़ाडोंगरी विधानसभा का उपचुनाव भाजपा विधायक सज्‍जन सिंह उईके के निधन के कारण हो रहा है।..... 
देवदत्‍त दुबे -
भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश पदाधिकारियों एवं वरिष्ठ नेताओं की बैठक 20 अप्रैल की शाम को प्रदेश भाजपा कार्यालय में आयोजित की गई है। इस बैठक में जहां नये संगठन महामंत्री सुहास भगत का परिचय एवं स्वागत होगा वहीं राष्ट्रीय आयामों के प्रभारी अरविन्द मेनन का पार्टी के सहयोग के लिये आभार एवं औपचारिक विदाई होगी। इस महत्वपूर्ण बैठक में प्रदेश प्रभारी विनय सहस्त्रबुद्दे, मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के साथ-साथ पूर्व मुख्यमंत्री सुन्दरलाला पटवा एवं कैलाश जोशी सहित पार्टी के वरिष्ठ नेता उपस्थित रहेंगे। भारतीय जनता पार्टी के प्रदेशाध्यक्ष नंदकुमार चौहान के अनुसार 20 अप्रैल को सायं 4ः30 बजे प्रदेश कार्यालय में होने वाली बैठक में सभी वरिष्ठ नेताओं को बुलाया गया है। बहरहाल, इस बैठक को महत्वपूर्ण इसलिये माना जा रहा है क्योंकि इस बैठक में संगठन महामंत्री के रूप में सुहास भगत पहली बार न केवल शामिल होंगे वरन्ा् वे यह भी बतायेंगे कि भविष्य में प्रदेश भाजपा का सांगठनिक स्वरूप कैसा होगा, कौन - कौन से कार्यक्रम पार्टी करने जा रही हैं। सूत्रों की माने तो इसके लिये पिछले कुछ दिनाें से संघ में मंथन चल रहा है। इस मंथन से जो भी निष्कर्ष निकलेंगे उनको इस बैठक में बताया जायेगा संघ के क्षेत्रीय प्रचारक अरूण जैन मसौदे को तैयार करने में खासी मशक्‍कत कर रहे हैं।....
 
देवदत्‍त दुबे -
प्रदेश में पिछले दो वर्षाें में हुई कम बारिश और भीषण गर्मी के चलते अधिकांश नदी-नाले सूख गये हैं, जिसके कारण जंगल में विचरण करते अधिकांश पशुओं और जानवरों को पीने का पानी नहीं मिल पा रहा हैं, जिससे उनकी अब जान भी जा रही है। जितनी भी चर्चायें हो रही है या प्रयास हो रहे हैं वे मानव को पेयजल उपलब्ध कराने के हो रहे हैं, क्योंकि मानव बोल सकता है, आंदोलन कर सकता है और भविष्य में वोट न देने की धमकी भी दे सकता है सो, इसके लिये तमाम प्रकार के प्रयास हो रहे हैं। ये बात और है कि इस समय पूरे प्रदेश में पीने की पानी को लेकर हाहाकार मचा हुआ है। कहीं - कहीं रात-रात भर जागकर लोग पीने के पानी का इंतजाम कर रहे हैं, तो कहीं- कहीं लड़ाई झगड़े भी हाने लगे हैं, कहीं- कहीं पानी पर ऐसे पहरेदारी हो रही है जैसे तिजोरियों की होती रही हैं। “जल है तो जीवन है” ये बात अब तक लोग कहते और सुनते आये हंै, लेकिन अब इसका अाभाष होने लगा है। वह दिन दूर नहीं जब इसका सामना जान की कीमत पर करना पड़ेगा। बहरहाल, जल की कमी की सबसे बड़ी मार मूक पशुओं को झेलनी पड़ रही है। दूरस्थ जंगलों ओर मैदानों में पानी पीने के अधिकांश स्त्रोंत नदी नाले सूख गये है, जिससे पानी की तलाश में भटकते इन मूक पशुओं और जानवरों को अपनी जान देने के लिये मजबूर होना पड़ रहा है। पिछले दिनों बुन्देलखंड के जंगलों में गाय, बैल सहित कुछ जंगली जानवर मृत अवस्था में मिले जिसके बारे में यहीं पता लगा है कि ये मौते पानी के अभाव में हुई। 
देवदत्‍त दुबे -
देश के साथ-साथ प्रदेश में भी भाजपा गिरते जनाधार को लेकर भाजपा सतर्क हो गई है और अब वह नये क्षेत्रों में नये मुद्दों के साथ-साथ नई छवि गढ़ने में जुट गई है। मसलन भाजपा को मौटे तौर पर सवर्णों और शहरी क्षेत्र की पार्टी माना जाता रहा है। सर्वे रिर्पोटों और चुनाव नतीजों में भी पार्टी की इन क्षेत्रों में मजबूत पकड़ पाई जाती रही है, लेकिन ये क्षेत्र काफी नहीं हैं, पूरे देश में जबूत पकड़ और स्थयित्व बनाने के लिये पार्टी अब जहाँ एक ओर दलितों को लुभा रही है तो दूसरी ओर बांवों पर फोकस बना रही है और इन्हीं दो बिन्दुओं पर पार्टी का महत्वाकांक्षी कार्यक्रम “ग्राम उदय से भारत उदय अभियान” अाज प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी महू में शुभारंग करेंगे जो कि डॉ़ भीमराव अंबेडकर की जन्म स्थली है सो, भाजपा एक तीन से दो निशाने साधेगी, एक तरफ दलितों को दिखाया जा रहा है कि भाजपा ही सबसे बड़ी दलित हितैषी पार्टी है दूसरा ग्राम उदय अभियान के माध्यम से गांव-गांव में भाजपा यह संदेश देगी कि उनकी प्राथमिकता में गांव है। 
देवदत्‍त दुबे -
अब वे दिन लद गये जब दलितों पर दबिश दी जाती थी, अब यह भी नही कहा जायेगा कि भाजपा ब्राम्हण, बनियों की पार्टी है, अब सर्वे रिपोर्ट में ये भी नहीं आयेगा कि दलितों के एकमुश्त वोट कांग्रेस या बसपा के खाते में जा रहा है, जिस तेजी से जमाना बदल रहा है उसी गति से राजनैतिक ध्रुवीकरण भी हो रहा है, सो देश के तमाम राजनैतिक दल दलितों पर दुलार दिखाने के लिये पूरा दम लगा है। इसके लिये 14 अप्रैल डॉ़ अंबेडकर का जन्म दिन और जन्म स्थली महू राजनैतिक परिवर्तन के लिये मील पत्थर साबित करने की कोशिश हो रही है।... 
देवदत्‍त दबे -
नासिक जिले में गोदावरी नदी का रामघाट पिछले 139 सालों के इतिहास में पहली बार सूख गया है, महाराष्ट्र में कुछ इलाकों में तालाबों और नालों के आस-पास धारा 144 लगानी पड़ी है, मुंबई हाइकोर्ट ने पेयजल संकट के चलते प्रदेश सरकार को आईपीएल मैचों के आयोजन के लिये आड़े हाथों लिया, लातूर में ट्रेन से पानी मंगाया जायेगा, ये सब बातें जाँ देश भीषण सूखे की स्थिति को बयां कर रही है तो मध्यप्रदेश में सूखे के भयावह संकट को देखते हुये अब सियासत शुरू हो गई है। प्रदेश में विपक्षी दल खसकर कांग्रेस और आप पार्टी ने गहराते पेयजल संकट पर आंदोलन शुरू कर दिये है, वहीं सत्‍ताधारी दल में भी जिम्मेवारियों से पल्ला झाड़ना शुरू हो गया है, सो अब प्रदेश में सूखे पर राजनीति का दौर शुरू हो गया है क्योंकि चौतरफा सूखे का संकट, बूंद-बूंद पानी को तरसते लोगों की भवनायें भी इस मुद्दे पर भड़क सकती हैं। प्रदेश में पाीन की अभाव, राजनैतिक दलों के लिये मुद्दों की कमी को पूरा करने का जरिया बन रहा है तभी तो प्रदेश कांग्रेस कमेटी के मुख्य प्रवक्‍ता केके मिश्रा का कहना है कि सूखे के चलते सरकार को पूर्वानुमान था कि गर्मी में पेयजल संकट गहराएगा लेकिन सरकार ने इसे गंभीरता से नही लिया, जिसके चलते प्रदेश में भीषण जल संकट गहराता जा रहा है, जिसके लिये भगवान नही सिर्फ सरकार जिम्‍मेवार है यहाँ बताते चले कि पिछले विधानसभा सत्र में पेयजल संकट के लिये सरकार ने भगवान को जिम्‍मेदार ठहराकर जिम्मेदारी से पीछे हट चुकी है।.... 
देवदत्‍त दबे -
दिसम्‍बर में शीतकालीन सत्र के दौरान जब बड़वानी आंख फुड़वा काँड पर सदन में चर्चा चल रही थी तब पूर्वमंत्री एवं कांग्रेस विधायक डॉ़ गोविन्द सिंह ने सदन में कहा था कि मुख्यमंत्री जी, नरोत्‍तम मिश्रा को कोई मलाईदार विभाग दे दो स्वास्थ्य विभाग इनके बस का नही है, तब शायद ये बात एक विपक्षी सदस्य ने कही थी इसलिये इस पर ध्यान नहीं दिया गया लेकिन गुरूवार को रायसेन में सरकार के केबिनेट मंत्री जो पूर्व में स्वास्थ्य मंत्री भी रह चुके डॉ़ गौरीशंकर शेजवार ने प्रदेश के स्वाथ्य विभाग की असलियत बयाॅ कर दी हॉलाकि शेजवार ने डॉक्टरों की स्थिति ही बताई जबकि शासकीय चिकित्सालयों में सुविधाओं की स्थिति और भ्ाी बदतर है। गर्मी के इस मौसम में जब बीमारियां तेजी से बढ़ने लगी है। अस्पतालों में पैर रखने की जगह नही है, ऐसे समय में प्रदेश की स्वास्थ्य सेवायें वेन्टीलेटर पर पहुंच गई है। समूचे प्रदेश में शासकीय चिकित्‍सालयों में समुचित इलाज के आभाव में बीमार गरीब आदमी मजबूरन प्राइवेट अस्पतालों में लुट-पिट रहा है। आर्थिक रूप से संपन्‍न लोग तो महानगरों के प्राइवेट अस्पतालों में इलाज भी करा लेते है लकिन बुन्देलखंड जैसे पिछड़े इलाकों मेें तो ढंग का कोई प्राइवेट अस्पताल तक नही है। संभागीय मुख्यालय सागर में लगभग पांच अरब की लागत से बना बुन्देलखंड मेडिकल कॉलेज आज प्रबुद्ध वर्ग द्वारा नकली बुन्देलखंड मेडिकल कॉलेज कहा जा रहा है। .... 
देवदत्‍त दबे -
राम मंदिर मुद्दे को यदि लालकृष्ण आडवाणी, कल्याणसिंह और विश्व हिन्दु परिषद ने उछालकर सर्णव हिन्दुओं को भाजपा का कट्टर सर्मथक बनाया तो अब दलित हिन्दुओं को पार्टी से जोड़ने के लिये डॉ़ भीमराव अंबेडकर (बाबा साहेब) की जन्मस्थली महू से प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और मुख्यमंत्री शिवराज सिंह पूरी शक्ति लगायेंगे जबकि संघ प्रमुख मोहन भागवत लगातार एक कुआ एक पाठशाला और एक शमशन की बात कई बार दोहरा चुके हैं। जैसे एक समय कांग्रेस पार्टी का दलित वोट बैंक मजबूत एवं स्थायी माना जाता था लेकिन धीरे-धीरे कांशीराम और मायावती ने बाबासाहेब को आगे रखकर कांग्रेस के इस वोट बैंक में जमकर सेंध लगाई और देश के सबसे बड़े राज्य उत्‍तर प्रदेश में बसपा ने बार-बार सरकार बनाई और अन्य प्रदेशों में सरकार बनाने और बिगाड़ने की क्षमता बनाई, जहाँ-जहाँ बसपा मजबूत हुई वहाँ-वहाँ कांग्रेस कमजोर होती गई लेकिन अब इस वोट बैंक पर भाजपा की नजरे टिक गई है सो, संघ से लेकर भाजपा तक सभी एक स्वर में दलित हितेषी बयान दे रहे हैं। इस मिशन का केन्द्र बिन्दु मध्यप्रदेश का महू रहेगा जो कि डॉ़ अंबेडकर की जन्म स्थली है। यही कारण बाबा साहेब की जयंती पर 14 अप्रैल को भाजपा महू में मेगा शो करने जा रही है, जिसमें लगभग पांच लाख लोगों की भीड़ जुटाने की तैयारी है। भाजपा हाईकमान कई मौकों पर जम्बूरी मैदान ेस लेकर शेरपुरा तक मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौळान और मप्र संगठन की भीड़ जुटाऊ क्षमता की परख कर चुकी है, इस कारण भी महू से पार्टी पूरे देश की भीड़ जुटाकर यह संदेश देना चाहती है कि दलित वर्ग अब न कांगेस, न बसपा बल्कि भाजपा के साथ है। 
देवदत्त दुबे -
इस समय देश में बिहार की चर्चा है क्योकिं आर्थिक स्थिति खराब होने के बावजूद बिहार में पूर्ण शराबबंदी लागू की गई है इसके पहले गुजरात, मणिपुर और नागालैंड में शराब बंदी लागू हो चुकी है। पुलिस थाने के रिकार्ड में देख लें या समाज में सर्वे करा लें अधिकांश अपराधों और तनाव के पीछे मुख्य वजह शराब ही नजर आएगी , सो हैप्पीनेस विभाग खोलने के बजाए शराबबंदी से भी खुशहाली आ सकती है। वैसे तो कहा यही जाता है कि ,खुशी हो या गम खूब पियेंगे हम.. , लेकिन गम में पीने से भविष्य में गम बढ़ता ही जाता है और खुशी में पीने से कभी भी खुशी गम में बदल सकती है। कमजोर और मध्यमवर्गीय परिवारों में आज शराब के कारण समय ,पैसा और स्वास्थ्य खराब हो रहा है और जिन परिवारों में आदतन शराबी हो जाते है वहां बर्बादी ,चिंता और तनाव के आलावा कुछ नहीं रह जाता है। परिवारों का टूटना , संबंधो के बिखरने के पीछे भी शराब ही मुख्य वजह है। नशे में दुर्घटनाओं के आलावा और भी कई प्रकार के अपराध बढ़े हैं। शराब से समाज में हो रही बर्बादी को देखते हुए आज शहर – शहर में नशामुक्ति केन्द्र खुल रहे है। यही नहीं नशे के चलते युवाओं में मनोरोग भी पनप रहे है। सो , शराब के कारण आज समाज में खुशहाली गायब हो रही है। और आसानी से गांव-गांव और गली-गली में शराब आसानी से मिल रही है जिसके कारण भी शराब का उपयोग बढ़ गया है। 
देवदत्त दुबे -
भोपाल/ उपचुनाव भले ही एक सीट के लिए हो जिसके हारने या जीतने पर सरकार भी नहीं बदलती लेकिन राजनैतिक वातावरण बनाने में उपचुनाव का खासा महत्व होता है जिसके कारण उपचुनाव में पक्ष और विपक्ष पूरी ताकत झोंकते हैं यही कारण है कि घोड़ाडोंगरी के उपचुनाव की तिथि भले घोषित नहीं हुई हो लेकिन राजनैतिकों की भाग-दौड़ इस ओर शुरू हो गई है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान 7 अप्रैल को घोड़ाडोंगरी पहुंच रहे हैं। इसके पहले वे सज्जन सिंह उइके के अंतिम संस्कार में शामिल हुए थे। चौहान की सफलता का राज भी यही है। वे हर छोटी से छोटी चुनौती को भी पूरी गंभीरता से लेते हैं और उपचुनाव के लिए तो एेसे प्रतिष्ठा से जोड़ लेते हैं जैसे वे स्वयं चुनाव लड़ रहे हो वैसे वे अधिकांश उपचुनाव मंे अपने भाषणों मंे यह कहते भी आए हैं कि एक वोट से दो प्रतिनिधि चुनोंगे एक मैं और दूसरा प्रत्याशी, यही कारण है कि अधिकांश उपचुनाव में भाजपा को सफलता भी मिली केवल झाबुआ लोकसभा के उपचुनाव में मिली हार जरूर अखरने वाली रही इसके बाद ही हुए मैहर विधानसभा के उपचुनाव में चौहान ने पूरी ताकत लगाकर यह सीट कांग्रेस से छीनी चौहान के साथ-साथ संगठन महामंत्री अरविन्द मेनन में घोड़ाडोंगरी की टोह लेना शुरू कर दिया है और शीघ्र ही कार्यकर्ताओं की बैठक लेंगे। वहीं प्रमुख विपक्षी दल कांग्रेस भी घोड़ाडोंगरी जीतने की योजना बना रही है। जबकि बसपा और सपा यहां हमेशा की तरह एक बार फिर प्रत्याशी खड़ा करने की औपचाकिता पूरी करेगी। 
देवदत्‍त दबे -
पहले भाजपा, फिर जदयू से जुड़ने वाले प्रशांत किशोर जब से कांग्रेस से जुड़े हैं तब से कांग्रेस में इसका असर दिखने लगा है वैसे तो यहीं कहा जा रहा है कि प्रशांत किशोर उत्‍तर प्रदेश में कांग्रेस की सरकार बनवाने के लिए प्रयास कर रहे हैं, लेकिन उन्होंने कांग्रेस को जाे मंत्र दिये है उसी के तहत पूरे देश में अब कांग्रेस में पहले दौर में प्रशिक्षण का कार्यक्रम चल रहा है। मध्य्ाप्रदेश मेें फिलहाल कांग्रेस में जो प्रशिक्षण चल रहे, उनमें पहले की तुलना में परिवर्तन भी देखे जा रहे हैं। पहले ये प्रशिक्षण या तो कांग्रेस कार्यालय में होते थे या ऐसे सार्वजनिक स्थानों पर जहाँ मीडिया भी आसानी से पहुंच जाया करता था, लेकिन इस बार क प्रशिक्षणों में मीडिया का प्रवेश नहीं दिया गया हैं। मतलब साफ प्रशिक्षण के लिये प्रशिक्षण नही है वरन इस प्रशिक्षण के परिणाम कांग्रेस में दिखाई दे रहे हैं। सूत्रों की माने तो राजधानी भोपाल में सोमवार से शुरू हुये तीन दिवसीय प्रशिक्षण शिविर में जिसे चेतना प्रशिक्षण शिविर का नाम दिया गया है, जिसमें पूर्व केन्द्रीय मंत्री जयराम रमेश, मणिशंकर अय्यर एवं पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह प्रशिक्षण दे रहे हैं, जिसमें मुख्य रूप से प्रशिक्षाणियों को यही बताया जा रहा है कि व घर-घर जाकर लोगों के एक तरफ कांग्रेस की विचारधारा से अवगत कराये तो दूसरी ओर सरकार की विफलतायें, सरकार में फैले भ्रष्टाचार के बारे में बताये।  
देवदत्‍त दबे -
चौदहवीं विधानसभा का दसवां सत्र आज पूरे समय चलकर समाप्त होगा, जबकि इसके पहले पिछले 12 वर्षों में अधिकांश सत्रों का समय पूर्व ही समापन हो गया, क्योंकि इसके पहले के सत्रों में सियासत हावी होती थी। सरकार के खिलाफ ऐसे जरफरात मुद्दे हुआ करते थे कि विपक्ष उसका पूरा फायदा लेना चाहता था। खासकर व्यापमं घोटाले की भेंट ही लगभग आधा दर्जन सत्र चढ़ गये। वैसे इस सत्र को लेकर शुरू से ही कयास लगाये जा रहे थे कि यह सत्र अधिकतम समय तक चलेगा, लेकिन बीच-बीच में संभावना बनी कि 18 मार्च को सत्र समाप्त कर दिया जायेगा। सत्र कब तक चले इसमें जितनी भूमिका विपक्ष के तेवरों की होती है, उतनी भूमिका सत्ता पक्ष कि सत्र चलने या चलने देने में रुचि की भी होती है सो, इस सत्र में न तो विपक्ष के तीखे तेवर थे और न ऐसे मुद्दे जिससे सदन के नेता (मुख्यमंत्री) पर सीधा कोई अटैक हो और जब तक विपक्ष के पास सदन के नेता को घेरने के मुद्दे और तेवर न हो तब तक सदन चलता रहे इसमें सत्ता पक्ष को कोई दिक्कत महसूस नहीं होती। वैसे भी प्रमुख विपक्षी दल प्रभारी नेता प्रतिपक्ष बाला बच्चन के सहारे सदन में रहा ऊपर से कांग्रेस विधायकाों में एकजुटता का अभाव भी हमेशा से रहा है, जिसमें कांग्रेस में अपनी ठपली अपना राग चलता रहा, यहां तक कि पूरे सत्र के दौरान विपक्ष से ज्यादा सत्ता पक्ष के विधायकों ने सरकार को घेरा कई बार सत्ता पक्ष के विधायकों के उग्र तेवर के कारण मंत्रियों की किरकिरी हुई, इस दौरान विपक्षी सदस्य भेजे थपथपाकर सत्ता पक्ष के विधायकों का उत्सावर्धन करते रहे। 
देवदत्त दुबे -
प्रदेश के दोनों प्रमुख दलों भाजपा और कांग्रेस में बदलते अंदाज देखे जा रहे हैं। भाजपा में जहां कांग्रेस की तरह अपनों को निपटाने की प्रवृत्ति पनप रही, वहीं कांग्रेस-भाजपा की शैली में आंदोलन प्रदर्शन करने लगी है। इन दलों की बदलती कार्यशैली देखकर जहां कार्यकर्ता हतप्रभ है, वहीं नेताओं की नजर में अपने-अपने दलों पर टिक गई है। प्रदेश और देश में सत्तारुढ़ दल भाजपा में ऊपर से भले ही सब कुछ सामान्य दिख रहा हो लेकिन अंदर ही अंदर गुटबाजी धधक रही है, जिनकी चिंगारी कभी कभार सबको दिख जाती है। जैसा कि सोमवार को सतना रेलवे स्टेशन पर पूर्व भाजपा प्रदेशाध्यक्ष प्रभात झा के स्वागत में भाजपा के दो गुट आपस में ऐसे भिड़े की हवाई फायर तक किये गये, ये तो छोटी चिंगारी है, लेकिन पार्टी के अंदर गुटबाजी की जो आग धधक रही है कहीं वो ज्वालामुखी बनकर पूरी पार्टी को ही तबाह न कर दे इसके लिये पार्टी का कर्मठ कार्यकर्ता जहां चिंतित और निराश है वहीं पार्टी के नेता भी अब इसे गंभीरता से ले रहे हैं। संगठन और संघ से जुड़े महत्वपूर्ण लोगों ने इस बात पर चिंता व्यक्त की है कि कहीं पार्टी के अंदर एक दूसरे को निपटाने का खेल ऐसा ही चलता रहा तो इससे पार्टी के ही निपटने के आसार बन जायेंगे क्योंकि आम जनता और विपक्ष से ज्यादा पार्टी के नेता ही एक -दूसरे की शिकायतें कर रहे हैं। ये शिकायतें मुख्यमंत्री से लेकर प्रधानमंत्री कार्यालय तक होने लगी है। 
देवदत्त दुबे -
प्रदेश में इस समय चौतरफा पनपते असंतोष ने न केवल भाजपा वरन सरकार की परेशानी बढ़ा दी है, सो, बढ़ती गर्मी और बढ़ते बिजली के दामों के साथ कहीं यह असंतोष और न बढ़े, सरकार के सामने फिलहाल इसको थामने की सबसे बढ़ी चुनौती है। पिछले कुछ माहों से प्रदेश में एक के बाद एक आंदोलन का दौर चल रहा है, प्रदेश में लगभग सभी कर्मचारी संगठन आंदोलन कर चुके हैं तो कुछ अभी और करने वाले हैं दैनिक वेतनभोगी 1 अप्रैल को बढ़ा आंदोलन करने की चुनौत्ाी पहले ही दे चुके हैं तो सराफा व्यापारियों की हड़ताल ने भाजपा की चिंता बढ़ा दी है। इस वर्ग को पार्टी हमेशा से अपना मानती रही है, लेकिन लगातार 25 दिन से हड़ताल पर सराफा व्यापारियों का अब तक लगभग 75 हजार करोड़ का नुकसान हो चुका ै। इतना नुकसान सहने के बाद ये वर्ग पार्टी की ओर कैसे लौटेगा। ये सोच कर पार्टी के चिंतक परेशान है। एक फीसदी की एक्साइज डयूटी के विरोध में देश में सराफा व्यापारियों के हड़ताल होने से मध्यप्रदेश में खासा असर देखा जा रहा है। इन सब आंदोलनों के अतिरिक्त पार्टी और सरकार के माध्यम से जिनको पद नहीं मिले वे तो असंतुष्ट हैं ही लेकिन पद मिले वे नाखुश नजर आ रे हैं, मसलन निगम मंडलों में जितनी भी नियुक्तियां हुई है। 
देवदत्त दुबे -
आगामी जून में मध्यप्रदेश से राज्यसभा की तीन सीटों के लिये होने वाले चुनाव को लेकर प्रदेश के दोनों प्रमुख दलों भाजपा और कांग्रेस में जोड़-तोड़ तेज हो गई है और दोनों दलों के दावेदार इस समय भोपाल से लेकर दिल्ली तक पार्टी के निर्णायक नेतृत्व से अपने -अपने नाम पर रजामंद करने में जुटे हैं। प्रदेश से राज्यसभा के तीन सीटें रिक्त होने वाली है, जिसमें भाजपा के कोटे में दो एवं कांग्रेस के कोटे में एक सीट आने वाली है, उस पर भी कांग्रेस को एक वोट की जुगाड़ बसपा या अन्य दलों से करनी पड़ेगी। इन तीन सीटों के लिये दोनों दलों से कम से कम 13 सशक्त दावेदार है, जहां तक सत्तारुढ़ दल भाजपा की बात है तो प्रदेश और देश में सत्ता होने के कारण दावेदारों की संख्या कुछ ज्यादा ही बढ़ गई है। भाजपा में अब तक दिल्ली से एक नाम जरूर आता है, जिसे प्रदेश से राज्यसभा भेजा जाता है। वैसे तो वर्तमान में चंदन मित्रा, प्रकाश जाबेडेकर, नजमा हेपतुल्ला मप्र के न होते हुए मप्र के कोटै से राज्य सभा में है। वर्तमान में पत्रकार चंदन मित्रा और अनिल माधव दवे का कार्यकाल पूरा होने के कारण भाजपा को दो सीटों के लिये नाम तय करना है। इसके लिये राम माधव, विनय सहस्त्रबुद्धे, कैलाश विजयवर्गीय, रघुनंदन शर्मा, सुधांशु मित्तल, कृष्ण मुरारी मोघे सशक्त दावेदार बनकर उभरे हैं। 
देवदत्त दुबे -
गांव-गांव में कांग्रेस की पकड़ मजबूत करने के लिये अब पार्टी पंचायती राज का सहारा ले रही है। प्रदेश कांग्रेस कमेटी और राजीव गांधी पंचायत राज संगठन के माध्यम से प्रदेश में दो महत्वपूर्ण कार्यक्रम करके पार्टी एक बार फिर गांव का रुख कर रही है। कांग्रेस पार्टी लगातार उन क्षेत्रों में ध्यान दे रही है, जहां कभी वह मजबूत हुआ करती थी और जिस क्षेत्र में पार्टी के शासनकाल में उल्लेखनीय उपलब्धि रही हो, सो, पार्टी रणनीतिकारों का मानना है कि देश में पंचायती राज की अवधारणा राजीव गांधी के कार्यकाल में ही प्रस्फुटित एवं पल्लवित हुई, उस दौरान ही गांव में सही मायने में गांधी जी का पंचायती राज का सपना साकार हुआ लेकिन धीरे-धीरे पूरे देश में पंचायती राज को कमजोर करने के प्रियास किये जा रहे हैं। कुछ ऐसी ही बातों को लेकर प्रदेश कांग्रेस कमेटी 27 मार्च को जबलपुर में पंचायती राज से जुड़े जन प्रतिनिधियों का सम्मेलन आयोजित करने जा रही है तो 29 और 30 मार्च को भोपाल के गांधी भवन में दो दिवसीय कार्यशाला होने जा रही है, जो कि राजीव गांधी पंचायत राज संगठन की राष्ट्रीय संयोजक पूर्व सांसद मीनाक्षी नटराजन की अगुवाई में हो रहा है, जिसमें पंचायती राज के कांग्रेस पार्टी से जुड़े प्रदेश भर के चुनिंदा जानकारों को आमंत्रित किया गया है। 
देवदत्त दुबे -
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एक बार फिर देश में दलित राग को यह कहकर हवा दे दी है कि वे ‘डॉ़ अम्बेडकर के भक्त हैं’ वैसे तो 14 अप्रैल 2015 को ही मोदी ने ‘जय भीम’ टवीट करके अपने व दल के इरादे साफ कर दिये थे, सो ‘जय श्रीराम’ और ‘बच्चा राम का, जन्मभूमि के काम का’ जैसे नारे अब पीछे छूट रहे हैं। मप्र भाजपा पहले से ही 14 अप्रैल को महू में दलित महाकुंभ की तैयारियों में जुटी हुई है। भाजपा के उमड़ते दलित प्रेम को भांपकर अन्य दल भी दलितों से पींगे बढ़ाने वाले कार्यक्रम बना रहे हैं, सो, फिलहाल लगभग सभी दल दलितों के दर पर पहुंच रहे हैं। वैसे तो दलितों को लुभाने की यह तैयारी 2018 और 2019 में देश में होने वाले विधानसभा और लोकसभा के आम चुनावेां को लेकर है, लेकिन दलित किस दल के साथ है। इसका लिटमस टेस्ट 2017 के उत्तरप्रदेश में हाेने जा रहे विधानसभा के चुनाव में चल जायेगा। यही कारण है कि दलों का फोकस दलितों पर है। 
देवदत्त दुबे -
अच्छे दिनों की आहट और कांग्रेस विरोधी लहर में भारी मतों से चुनाव जीत दिल्ली पहुंचे भाजपा के सांसदों को पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमितशाह ने दो ट्रक कहा है कि वे गांव-गांव जाये और सरकार की उपलब्धियां आमजन तक पहुंचाये, यहां तक कि होली और रंगपंचमी का त्यौहार भी गांव में ही मनाये। शाह के फरमान से वे सांसद जरूर अपने आपको सांसत महसूस कर रहे जो छुट्टियां मनाने के कार्यक्रम बनाये बैठे थे। जैसे ही संसद का बजट सत्र समाप्त हुआ भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने भाजपा के सांसदों की एक बैठक बुलाई जिसमें सांसदों से कहा गया कि विपक्षी दल खासकर कांग्रेस केंद्रीय बजट को लेकर दुष्प्रचार कर रही है जिसके कारण आमजन के बीच सरकार के प्रति कोई गलत धारणा दृढ हो, इसके पहले आम आदमी के बीच जायें एवं उन्हें बजट की खूबियां गिनाये बैठक में सांसदों को दो फोल्डर भी दिये। एक फोल्डर में बजट की उपलब्धियों से जुड़ा है, जबकि इसके फोल्डर में किसानों के लिये केंद्र द्वारा शुरू की गई फसल बीमा योजना की विशेषताएं हैं। सांसदों से कहा गया है कि वे 20 मार्च से गांव-गांव जाकर विचार गोष्ठियां, नुक्कड़ सभायें आयोजित कर आमजन को वस्तुस्थिति से अवगत कराये एवं इसकी पूरी रिपोर्ट केंद्रीय संगठन को सौंपे, सो, प्रदेश के सांसद अब त्यौहार छोड़ तैयारियों में जुट गये हैं।
देवदत्त दुबे -
प्रदेश में सत्तारुढ़ दल भाजपा में इस समय न तो प्रदेश कार्यकारणी का गठन हो पा रहा और न ही आजीवन सहयोग निधि का लक्ष्य पूरा हो पा रहा है। इस कारण नीचे से लेकर ऊपर तक नेताओं की परेशानियों बढ़ गई है। वैसे तो अब तक भाजपा की राष्ट्रीय कार्यकारिणी का गठन नहीं हो पाया है। इस कारण प्रदेश कार्यकारणी का गठन टाला जाना स्वाभाविक है, लेकिन प्रदेश में जिला अध्यक्ष बनाये गये अधिकांश अध्यक्ष अपनी जिला कार्यकारणी का भी गठन नहीं कर पा रहे हैं। इसके लिये विधायकों, मंत्रियों और संगठन मंत्रियों से जिला अध्यक्षों की सहमति नहीं बन पा रही है, इसके लिये प्रदेश कार्यकारिणी के गठन का भी इंतजार चल रहा है, जिससे कुछ लोग प्रदेश में समायोजित हो जायेंगे, जिससे उनके समर्थक  यदि जिला कार्यकारिणी में नहीं भी आ पाये तो कोई बात नहीं, लेकिन प्रदेश कार्यकारणी के गठन को भी इंतजार राष्ट्रीय कारणी के गठन का है। इस कारण जिला से लेकर राष्ट्रीय कार्यकारिणी तक में पद पाने के लिये दावेदार अपने-अपने स्तर पर जोड़तोड़ लगा रहे हैं। सबकी अपनी-अपनी परेशानी है।
देवदत्त दुबे -
मध्यप्रदेश से अलग हुए छत्तीसगढ़ को लगभग 15 वर्ष से अधिक समय भले ही हो गया हो लेकिन बहुत कुछ मध्यप्रदेश से मिलता-जुलता लगता है। छत्तीसगढ़ यहां तक कि दोनों प्रदेशों के नेतृत्वकर्ता  भी अपनी छवि जनता के बीच एक सहज सरल नेता की बनाये हुए हैं। दोनों ही प्रदेशों में घोटालों के आरोप भी आंधी की तरह आते और तूफान की तरह चले जाते हैं। दोनों ही प्रदेशों में प्रमुख विपक्षी दल कांग्रेस की कलह अब भी थमती नजर नहीं आती। अंतर है तो केवल यही कि शिवराज सिंह जहां धारा प्रवाह बोलते हैं तो रमन सिंह सोचते, रुकते हुए बोलते हैं। जिस तरह दो सगे भाई भले ही अलग-अलग शहरों में रहने लगे लेकिन उनके बीच आपस में लगाव हमेशा कायम रहता है। ऐसा ही है मध्यप्रदेश और छत्त्ाीसगढ़ के बीच संबंधों का सिलसिला, विभाजन के 15 वर्षों  के बाद भी अन्य राज्यों की बजाय मप्र और छग के बीच आपस के रिश्ते मिठास लिए हुए हैं वरना अक्सर बंटवारे में खटास पैदा हो ही जाती है।
-देवदत्त दुबे -
प्रदेष कांगे्रस वैसे भी क्षत्रपों का एक समूह कहा जाता है यही कारण है कि विभिन्न अंचलों से कांग्रेस पार्टी की सरकार बनाने की बजाय अपने क्षेत्रप नेता के नेतृत्व चुनाव लड़ने की मांग उठ रही है महाकौषल से जहाँ पिछले दिनों पूर्व केन्द्रीय मंत्री कमलनाथ को प्रदेष कांग्रेस अध्यक्ष बनाये जाने की मांग उठी थी सो, रविवार को मालवा अंचल से युवा नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया की अगुवाई में 2018 का चुनाव लड़ने की मांग उठी है। वैसे तो देखा जाये तो प्रदेष कांग्रेस में कमलनाथ और ज्योतिरादित्य सिंधिया ही बचे जिन्हें प्रदेष कांग्रेस के नेतृत्व करने का अब तक मौका नहीं मिला है बाकी दिग्विजय सिंह, सुरेष पचैरी को मौका मिल चुका है और अरूण यादव वर्तमान में नेतृत्व कर ही रहे है । कमलनाथ और सिंधिया की अब तक रूचि केन्द्र राजनीति में रही है लेकिन केन्द्र में कांग्रेस की सरकार न होने से ये नेताद्धय म.प्र. में अपनी संभावनायें तलाष रहे है।
 
चेन्नई : तमिलनाडु की पूर्व मुख्यमंत्री जे जयललिता की 70वीं जयंती पर 24 फरवरी से अम्मा दुपहिया वाहन योजना शुरू होगी जिसके तहत महिलाएं 50 फीसदी सरकारी सब्सिडी पर मोपेड वाहन खरीद सकेंगी। अन्नाद्रमुक ने अपने घोषणापत्र में कहा था कि महिलाओं को 125 क्यूबिक क्षमता से कम के मोपेड या स्कूटर खरीदने के......
बेंगलुरू : कर्नाटक में विधानसभा चुनावों से पहले सत्तारूढ़ कांग्रेस और विपक्षी भाजपा के बीच सोशल मीडिया पर गोमांस को लेकर जंग छिड़ गयी है और दोनों पक्ष एक दूसरे का मजाक उड़ाते हुए वीडियो डाल रहे हैं। कांग्रेस ने अपने ताजा वीडियो में भाजपा को ‘बीफ जनता पार्टी’ कहते हुए उसकी खिल्ली उड़ाई है।
नई दिल्ली। शिवसेना ने सोमवार को आम आदमी पार्टी (आप) के दिल्ली के 20 विधायकों को ‘लाभ का पद’ धारण करने को लेकर अयोग्य करार दिए जाने में ‘जल्दबाजी’ को लेकर सवाल उठाए। शिवसेना ने कहा, “यह एक अभूतपूर्व घटना है जिसमें बहुत से चुने हुए विधायकों को थोक भाव से अयोग्य करार दे दिया गया।
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी विश्व आर्थिक मंच (WEF) में भाग लेने के लिए पीएम मोदी ज्यूरिख पहुंच चुके हैं. यहां से पीएम सीधे दावोस रवाना होंगे. इस मंच में शरीक होने वाले मोदी बतौर प्रधानमंत्री एचडी देवगौड़ा के बाद देश के दूसरे प्रधानमंत्री हैं. 1997 में दावोस गए देवगौड़ा और 2018 में दावोस जाने वाले मोदी के शासनकाल में देश की परिस्थतियां बहुत भिन्न थीं.

शिमला: प्रदेश में जल्द एच.आर.टी.सी. की इलैक्ट्रिक टैक्सी सेवा जल्द शुरू होने जा रही है। इसके लिए बकायदा प्रदेश मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर द्वारा हरी झंडी दिखाने की तैयारी की जा रही है। इलैक्ट्रिक टैक्सी व बस सेवा को शुरू करने के लिए हिमाचल पथ परिवहन निगम प्रबंधन द्वारा योजना तैयार कर ली है....

 

 
यूपी :यूपी के अलीगढ़ में 10वीं की छात्रा के गैंगरेप की सनसनीखेज वारदात सामने आई है. पीड़िता के गांव के ही चार युवकों ने इस वारदात को अंजाम दिया है. इस दौरान उन्होंने उसका अश्लील वीडियो भी बना लिया और वायरल करने की धमकी देकर ब्लैकमेल करते रहे. पीड़ित की तहरीर पर पुलिस ने केस दर्ज करके जांच शुरू कर दी है.
22-01-2018
भोपाल। महिला या युवतियों से छेड़छाड़ की शिकायत मिलते ही अब महिला शक्ति स्क्वॉड मौके पर पहुंचेगा। शहर के चारों पुलिस जोन में महिला पुलिसकर्मियों का आठ सदस्यीय दल काम करेगा।  24 जनवरी को शक्ति स्क्वॉड को पुलिस कंट्रोल रूम से हरी झंडी दिखाकर रवाना किया जाएगा।
19-01-2018
नई दिल्ली: चुनाव आयोग द्वारा लाभ के पद के मामले में आम आदमी पार्टी के 20 विधायकों को अयोग्य ठहराए जाने की सिफारिश राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद को भेजे जाने से संबंधित मीडिया रिपोर्टों पर पार्टी विधायक सौरभ भारद्धाज ने कड़ी प्रतिक्रिया दी है। भारद्धाज ने इसपर मुख्य चुनाव आयुक्त एके. जोति पर तीखा हमला करते हुए आरोप लगाया कि......
दिनेश निगम ‘त्यागी’
-गुजरात से मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान शपथ ग्रहण समारोह शुरू होने से पहले लौटे तो उनसे पार्टी नेतृत्व की नाराजगी लेकर अटकलें शुरू हो गर्इं, इसके बाद प्रदेश अध्यक्ष नंद कुमार सिंह चौहान की कुर्सी खतरे में बताई जाने लगी। अब केंद्रीय मंत्री उमा भारती, भाजपा महासचिव कैलाश विजयवर्गीय, सांसद प्रहलाद पटेल को नई जवाबदारी देने को लेकर अटकलों का बाजार गर्म है। कहा जा रहा है कि अगले विधानसभा चुनाव में इनकी महत्वपूर्ण भूमिका हो सकती है। ऐसी अटकलों के बीच प्रदेश नेतृत्व  चिंता में है। साफ है कि भाजपा नेतृत्व कोई निर्णय ले या न  ले, पर इन अटकलों से कई नेताओं की नींद उड़ी हुई है।...
19-01-2018
वॉशिंगटन: पूरी दुनिया में 2014 में विज्ञान और इंजीनियरिंग में अनुमानित रूप से 75 लाख स्नातक डिग्रियां दी गयीं जिनमें भारत की सबसे ज्यादा, एक-चौथाई हिस्सेदारी थी. हालांकि अनुसंधान एवं विकास के क्षेत्र में खर्च के लिहाज से अमेरिका पहले स्थान पर है. नेशनल साइंस फाउंडेशन की वार्षिक साइंस एंड इंजीनियरिंग इंडिकेटर्स 2018 रिपोर्ट के.......
19-01-2018
मुंबई : भारिप बहुजन महासंघ प्रमुख एवं दलित नेता प्रकाश अंबेडकर ने आज कहा कि कांग्रेस 2024 तक भाजपा को सत्ता से बेदखल नहीं कर सकती क्योंकि वह प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की साफ सुथरी छवि का मुकाबला नहीं कर सकती। प्रकाश अंबेडकर ने यहां मुंबई मराठी पत्रकार संघ द्वारा आयोजित बातचीत में यह कहा।
19-01-2018
चेन्नई: पूर्व कप्तान महेन्द्र सिंह धोनी ने दक्षिण अफ्रीका में भारतीय टीम के लचर प्रदर्शन का बचाव करते हुए आज यहां कहा कि टीम के लिए कई सकारात्मक पहलू है जिसमें से गेंदबाजों का शानदार प्रदर्शन प्रमुख है। विराट कोहली के नेतृत्व में विश्व रैंकिंग में पहले स्थान पर काबिज भारतीय टीम दक्षिण अफ्रीका से तीन मैचों की श्रृंखला में 0-2 से पिछड़ रही है। 
19-01-2018
 नयी दिल्ली : भारतीय दूरसंचार नियामक प्राधिकरण :ट्राई: ने रिलायंस कम्युनिकेशंस :आरकॉम: को उपभोक्ताओं के खर्च नहीं हुए बैलेंस और सिक्योरिटी जमा को लौटाने का निर्देश दिया है। ग्राहकों ने इस बारे में नियामक के पास शिकायत की थी, जिसके बाद यह निर्देश दिया गया है। ट्राई ने अनिल अंबानी की अगुवाई वाली कंपनी से प्रीपेड ग्राहकों का पैसा और पोस्ट पेड उपभोक्ताओं की जमा राशि लौटाने......
कैबिनेट: सातवें वेतनमान पर बैठक में नहीं हुई चर्चा, मेधावी छात्रों की फीस देगी सरकारभोपाल। सीएम शिवराज सिंह चौहान की अध्यक्षता में हुई कैबिनेट की बैठक में कई अहम प्रस्तावों पर चर्चा हुई। हालांकि, सातवें वेतनमान का मुद्दा स्थगित कर दिया गया। कयास लगाई जा रही थी कि प्रदेश के साढ़े चार लाख कर्मचारियों को 1 जुलाई 2017 से ...
भोपाल/ प्रदेश के गृह मंत्री भूपेंद्र सिंह ने मंगलवार को विधानसभा में घोषणा की कि लोगों के करोड़ों रुपए ठग कर भागने वाली कंपनियों की मानीटरिंग एवं समय पर कार्रवाई करने के उद्देश्य से पुलिस मुख्यालय में एडीजी के नेतृत्व में एक मानीटरिंग सेल का गठन किया जाएगा। इसके साथ रिजर्व बैंक आफ इंडिया को पत्र लिखकर आग्रह किया जाएगा कि वे कंपनियों को लाइसेंस जारी करने से पहले पुलिस का सत्यापन अनिवार्य करें। गृह मंत्री विधानसभा में भाजपा के यशपाल सिंह सिसोदिया द्वारा लाए गए ध्यानाकर्षण एवं सदस्यों द्वारा व्यक्त की गई आशंकाओं का जवाब दे रहे थे।


बाहुबली 2बाहुबली जब से रिलीज हुई है तब से फिल्मी दुनिया पर छाई हुई है. भारत में सफलता पाने वाली बाहुबली 2 विदेश को विदेशों में भी काफी सराहा जा रहा है. खबर है कि बाहुबली 2 मोस्को के अंतरराष्ट्रीय फिल्म फेस्टिवल में ओपनिंग फिल्म के तौर पर दिखाई जाएगी.
सर्दियों मेें धूप हर किसी को ही अच्छी लगती है लेकिन आजकल लोग या तो टैनिंग की वजह से या फिर अपने काम काज के कारण धूप नहीं ले पाते लेकिन यदि आप इसके फायदों के बारे में जानेगें तो आपको पता चलेगा कि धूप लेने से कितनी ही बीमारियां ठीक होती है।
.......
25 सितंबर
उपांग ललिता पंचमी व्रत। ललिता पंचमी। सोमवती पंचमी पर्व। बुध अस्त पूर्व में 16/22 पर।
26 सितंबर
बुध कन्या राशि में 10/28 पर। शुक्र पूर्वाफाल्गुनी नक्षत्र में 26/20 पर।
27 सितंबर
मूल नक्षत्र में सरस्वती देवी का आवाह्न। भद्रकाली अवतार। अन्नपूर्णा परिक्रमा प्रारम्भ 19/09 बजे से। ओली प्रारम्भ (जैन) चतुर्थी पक्ष। सूर्य हस्त नक्षत्र में 05/56 पर। सूर्य-सूर्य, स्त्री-नपुंसक योग, वाहन मूषक, वायु नाड़ी, तदीश सूर्य (पुरुष), अत: बहुत हवा चले अनावृष्टि हो।
28 सितंबर
दुर्गाष्टमी व्रत। महाष्टमी। अष्टमी का हवनादि आज ही करें। पूर्वाषाढ़ा नक्षत्र में सरस्वती देवी का पूजन। अन्नपूर्णा परिक्रमा समाप्त 21/37 बजे। ओली प्रारम्भ (जैन पंचमी पक्ष)। श्री अष्टभुजी दुर्गा शक्ति पीठ (दुर्गा मंदिर) कानपुर में शतचण्डी यज्ञ का हवन पूर्णाहुति एवं महाप्रसाद वितरण। शक्ति संगीत सभा।
29 सितंबर......


php_network_getaddresses: getaddrinfo failed: Name or service not known--->0